रिपोर्टर कमलेश शुक्ला
रायपुर

*सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसले के मुख्य बिंदु :*

♦ *सिया वफ बोर्ड की अर्जी खारिज*

♦ *बाबरी मस्जिद खाली जगह पर नही बनी  थी*

♦ *वहां पहले कोई इस्लामिक ढांचा नही था*

♦ *वहाँ पहले मंदिर था ASI की रिपोर्ट को सही माना*

♦ *वहाँ ईदगाह नही था*

♦ *ये जगह मंदिर की ही थी* 

♦ *रिपार्ट में 12 वी सदी में मंदिर बना था* 

♦ *भगवान श्री राम अयोध्या में पैदा हुए थे ये कोई विवादित मामला है ही नही ।*

♦ *आस्था विश्वास पर कोई मालिकाना हक नही हो सकता ।*

♦ *ASI के हिसाब से मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने का जिक्र नही*

♦ *सीता रसोई, सींह-द्वार और वेदी के प्रमाण मिलते है*

♦ *हिन्दू मुख्य गुम्बद के नीचे ही राम जन्म भूमि मानते है*

♦ *मुस्लिम पक्ष का जमीन पर विशेष एकाधिकार नही*

♦ *मुस्लिम जमीन का मालिकाना हक सिद्ध नही कर पाए*

♦ *18 वी सदी (अंग्रेजो के जमाने तक) तक मस्जिद में नमाज के कोई रिकॉर्ड नही*

♦ *ढांचे को गिराना कानून का उलंघन*

♦ *हिन्दू सीता रसोई में पूजा करते थे*

♦ *बाबरी आहाते पर हिन्दुओ का अधिकार*

♦ *मुस्लिम सुन्नी वफ बोर्ड को अलग/दूसरी अयोध्या में ही जगह (5 एकड़ जमीन) देने का आदेश , फैसला प्रांतीय एवं केंद्रीय सरकार पर।*

♦ *रामलला का जमीन पर दावा बरकरार उन्हें दे दी जाए ।*

♦ *संविधान की धारा 142 के तहत*

♦ *मेरे पूजा करने के अधिकार को सही माना*

♦ *मंदिर बनाने के लिये 3 महीने के अंदर ट्रस्ट बनाने का आदेश*

♦ *2.77 एकड़ की जमीन पूर्णतः राम मंदिर की*

♦ *विवादित जमीन सरकार के पास रहेगी और वहां पर मंदिर बनेगा*

♦ *मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का मंदिर राम जन्मभूमि पर ही बनेगा।*

आपसी भाई चारा कायम हो उसके सभी धर्म के लोगो ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किये  ।।