संवदाता
उपेन्द्र मणि तिवारी
रीवा सिरमौर

किसान नेता सर्जेश पांडेय ने काँग्रेस  कमलनाथ  सरकार पर निशाना  साधा काँग्रेस सत्ता पाने के लिए लोकलुभावन योजनाओं का पिटारा  दिखा सत्ता  तो हथिया लिया पर पिटारा खाली निकला कर्ज माफी का का एक अहम घोषणा थी  आए  दिन फसल खराब होने की बजह से किसानों द्वारा खाद बीज  के लिए* कर्ज  समय मे चुकता नही कर पा रहे बैंक के दबाव चलते किसान आत्महत्या*करने को मजबूर हो रहे  पांडेय का कहना है हर दिन तराई अंचल के किसान   अपनी समस्याओं को लेकर  आते है हर सम्भव उनकी मदद का प्रयास के बावजूद  सरकार की गलत नीतिओ की बजह से पालन हर आत्मा  हत्या कर रहे हैं बहुत पीड़ा होती ।।सेमरिया के किसान  ने

2 लाख 25 हजार का 10 दिनों के अंदर कर्ज जमा करने का मध्यांचल बैंक बीड़ा से मिला था किसान को नोटिस

सेमरिया थानांतर्गत ग्राम पटना निवासी  बंशपती साहू उम्र 56 वर्ष मध्यांचल बैक बीड़ा से 2 लाख 25 हजार की कर्ज जमा करने की नोटिस किसान को 15 दिन पहले प्राप्त हुई थी जिसके चलते वह मानसिक रूप से काफी परेशान रहता था ,एवम इसकी सूचना अपने भाइयों एवम भतीजो को भी दिया था और अक्सर यह कहता था कि कर्ज के चलते लगता है मुझे मर जाना पड़ेगा,आज सुबह करीब 6 बजे के बंशपती साहू ने घर मे फाँसी के फंदे में झूलकर अपनी जान दे दी जिसका पोस्टमार्टम सेमरिया डॉक्टरों ने करके लाश परिजनों को सौप दी मृतक के दो बच्चे थे एक घर मे ही रहता था और एक बॉम्बे में मजदूरी करता था   किसान नेता सर्जेश  कहना ऐसे किसानों को बलि नही चढ़ने देगे सरकार को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी अन्न दाता   की तरफ सरकार को ध्यान देना होगा  कांग्रेस को अपना वादा पूर्ण करना होगा